Monkey Pox Kya hai | मंकीपाक्स के लक्षण क्या हैं और इसका संक्रमण कैसे फैलता है

Monkey Pox Kya hai | मंकीपाक्स के लक्षण क्या हैं और इसका संक्रमण कैसे फैलता है

Monkey Pox Kya hai :- मंकीपाक्स वायरस मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरस संक्रमण है। जो ऑर्थोपॉक्स वायरस की फैमली का ही एक हिस्सा है । यह वायरस बहुत तेजी से विश्व के हर कोने मे अपना पैर फैला रहा है । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के प्रकोप से अभी पूरा विश्व राहत का साँस तक नहीं लिया है की ये दूसरी वायरस लोगों को अपनी चपेट मे लेना शुरू कर दिया है ।

also read – Depression Se Bahar Kaise Nikale | डिप्रेशन से बाहर कैसे निकलें

दुर्भाग्य की बात ये है की मंकीपाक्स वायरस का भी कोरोना वायरस की तरह कोई इलाज नहीं है। लेकिन चेचक का टीका मंकीपाक्स को रोकने में 85 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है। मंकीपाक्स को यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने कम जोखिम वाला वायरस बताया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंकीपाक्स के प्रकोप को अब वैश्विक आपातकाल घोषित कर दिया है।

डब्लयूएचओ ने इसके बारे में हर देश को चेतावनी पहले से ही देते हुवे कहा है कि, जिन देशों में मंकीपाक्स वायरस अभी तक नहीं फैला है वो भी बचाव की तैयारी रखें। क्योंकि ये वायरस सबसे ज्यादा लोगों मे एक दूसरे के संपर्क से फैल रहा है। इस वायरस के विषय मे सही जानकारी और बचाव ही हमे इस वायरस से बचा सकती है ।

फिलहाल मंकीपाक्स वायरस का प्रभाव अभी तक यूके, यूरोप, उत्तरी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया सहित लगभग 70 देशों मे फैला है । भारत मे भी मंकीपाक्स दस्तक दे चुका है। केरल में इस वायरस के तीन मामले सामने आ चुके हैं। वही विश्व मे अबतक 14,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। अफ्रीका में मंकीपाक्स से पांच लोगों की मौतें भी हो चुकी हैं। मंकीपाक्स वायरस के विषय मे ये कहना गलत नहीं होगा कि इससे बचने के लिए जानकारी और सावधानी दोनों ही बहुत जरूरी है ।

मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण से बचने के लिए यह जानना जरूरी है कि इसका संक्रमण कैसे फैलता है? इसके संक्रमण का कोई इलाज या वैक्‍सीन है या नहीं ? इसके लक्षण क्या हैं? यह कितना खतरनाक है?

also read- Self Improvement Tips in Hindi | खुद को बेहतर बनाने के अनमोल तरीके

Monkey Pox Kya hai
Monkey Pox Kya hai

मंकीपाक्स वायरस का संक्रमण कैसे फैलता है | Monkey Pox Kya hai

मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण कई तरीकों से फैल रहा है जो निम्न है –

1 – मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण से जो व्यक्ति संक्रमित है उसके संपर्क मे आने से इंसान मे मंकीपॉक्स वायरस का संक्रमण फैल सकता है । यहा तक की संक्रमित व्यक्ति के बिस्तर और कपड़ों के संपर्क से भी ये वायरस हो सकता है ।

2- मंकीपॉक्स वायरस जिस व्यक्ति को हुआ है उसके शरीर पर घाव जैसे फोड़े होने लगते है । यह वायरस मरीज के घाव से निकलकर आंख, नाक और मुंह के जरिए दूसरे व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करता है।

3- मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण बंदर, कुत्ते और गिलहरी जैसे जानवरों से भी फैल रहा है । यह संक्रमित जानवर के काटने से, या उसके खून, शरीर के तरल पदार्थ, या फर को छूने से भी हो सकता है।

मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण की फैलने की जो प्रक्रिया है वो हमारे लिए काफी राहत देने वाली है क्योंकि इसमे एक संक्रमित व्यक्ति सिर्फ एक ही व्यक्ति को संक्रमण फैला सकता है। इसलिए इसमे मरीज को आइसोलेट करना आसान है।

मंकीपाक्स वायरस के लक्षण क्या हैं | Monkey Pox Kya hai

मंकीपाक्स का लक्षण- जिस व्यक्ति को मंकीपाक्स वायरस हो जाता है उसमे कुछ खास लक्षण देखने को मिलता है । मंकीपाक्स वायरस की शुरुआत चेहरे से होती है। चेहरे से लेकर बाजुओं, पैरों और शरीर के अन्य हिस्सों पर रैशेस होने लगते है । ये रैशेस संक्रमण के 5वें दिन से लेकर 21वें दिन तक कभी भी हो सकते है ।

जब व्यक्ति मंकीपाक्स वायरस से संक्रमित होता है तब शुरुआती लक्षण फ्लू जैसे होते हैं। इनमें बार-बार तेज बुखार आता है । पीठ और मांसपेशियों में दर्द होता है । सिर मे भी दर्द होता है । व्यक्ति को कंपकंपी छूटने लगता है । थकान महसूस होने लगता है । खुजली की समस्या होने लगती है । गला खराब होने लगता है और बार-बार खांसी आने लगता है । यह संक्रमण आमतौर पर 14 से 21 दिन तक रहता है।

अंत मे व्यक्ति के चेहरे पर दाने उभरने लगता है और यह दाने शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फैल जाता हैं। संक्रमण के दौरान यह दाने कई बदलावों से गुजरता हैं और आखिर में चेचक का रूप ले लेता है ।

मंकीपॉक्‍स वायरस संक्रमण कितना खतरनाक है ? Monkey Pox Kya hai

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक मंकीपॉक्स एक दुर्लभ वायरस है, जिसका संक्रमण कुछ मामलों में गंभीर हो सकता है. इस वायरस के दो स्‍ट्रेन्‍स हैं- पहला कांगो स्ट्रेन और दूसरा पश्चिम अफ्रीकी स्ट्रेन. दोनों ही स्ट्रेन 5 साल से छोटे बच्चों को अपना शिकार बनाते हैं. कांगो स्ट्रेन से संक्रमण के मामलों में मृत्यु दर 10% और पश्चिम अफ्रीकी स्ट्रेन से संक्रमण के मामलों में मृत्यु दर 1% है।

मंकीपाक्स का इलाज क्या है | Monkey Pox Kya hai

मंकीपाक्स का अभी तक कोई भी इलाज उपलब्ध नहीं है। लेकिन चेचक का टीका मंकीपाक्स को रोकने में 85% प्रभावी साबित हुआ है। मंकीपाक्स वायरस का सबसे आसान इलाज है । इसके विषय मे सही जानकारी, बचाव और सावधानी ।

मंकीपॉक्‍स हमारे लिए कितना खतरनाक है | Monkey Pox Kya hai

मंकीपॉक्‍स हमारे लिए उतना खतरनाक नहीं है जितना हमारे लिए करोना था । मंकीपॉक्‍स करोना वायरस के अपेक्षा बहुत कम तेजी से फैलता है । इसमे एक व्यक्ति सिर्फ एक व्यक्ति को ही संक्रमित करता है । इसलिए इसमे खतरा कम है । इसमे चेचक का टीका मंकीपाक्स को रोकने में 85% प्रभावी साबित भी हुआ है। इसलिए इसमे मृत्यु दर भी करोना के अपेक्षा बहुत कम है ।

निष्कर्ष: Monkey Pox Kya hai

Monkey Pox Kya hai इस विषय पर मैंने पूरी जानकारी आपलोगों को देने की कोशिश की हूँ । यदि ये जानकारी आपको helpfull लगे तो आप Monkey Pox Kya hai ये जानकारी अपने लोगों तक जरूर पहुँचाने की कोशिश करे । ताकि लोग सावधान रहे और हम करोना जैसे Monkey Pox को फैलने से रोक सके ।

आप दूसरों की मदद सिर्फ इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर शेयर कर के कर सकते है ।

मैं अपनी प्रत्येक आर्टिकल बहुत मेहनत करके लिखती हूँ ताकि जो भी रीडर्स मेरे ब्लॉग पर आते है उन्हे अच्छी अच्छी जानकारी मिल सके । आप इसे सिर्फ शेयर करके दूसरों को भी अच्छी जानकारी दे सकते है और अपने जीवन मे एक अच्छा काम भी कर सकते है ।

# Monkey Pox Kya hai # Monkey pox Alert # Symptoms of Monkey pox # मंकीपाक्स वायरस का संक्रमण कैसे फैलता है #मंकीपाक्स वायरस के लक्षण क्या हैं # monkeypox case # मंकीपाक्स # विश्व स्वास्थ्य संगठन # वैश्विक आपातकाल

Leave a Comment