Biography of J. K. Rowling in Hindi जे. के. रोलिंग की जीवनी

Biography of J. K. Rowling in Hindi जे. के. रोलिंग की जीवनी

Biography of J. K. Rowling in Hindi– जे. के. रोलिंग की जीवनी ( JK Rowling ) कठिनाइयों से लड़ने और बुरे हालातों को अपार सफलता में बदलने की एक Motivational कहानी हैं । हैरी पॉटर सीरीज की 7 किताबें लिखने वाली जे. के. रोलिंग की जन्म 31 जुलाई ,1965 को इंग्लैंड के येत शहर में हुआ था। J. K. Rowling की शुरुआती Life देखकर किसी को नहीं लगेगा कि वो कभी सफलता की ऊंचाइयों को छुएंगी ।

Biography of J. K. Rowling in Hindi – जे. के. रोलिंग की बच्चपन

जोनाह “जे. के. रोलिंग” का बच्चपन का नाम ‘जोआन मुर्र्य’ रखा गया. उनके पिता पीटर जेम्स रोलिंग aircraft engineer और माता एनी रोलिंग science technician थी। उनकी एक छोटी बहन थी जिसका नाम डियाना था। डियाना का जन्म उनके जन्म के 2 वर्ष के उपरांत हुआ था।

जे. के. रोलिंग का किशोरावस्था काफी अच्छे नहीं थे । उनकी माँ बीमार रहती थीं और उनके माता पिता में अक्सर झगड़ा होता रहता था। जिसके वजह से उनके घर का महौल हमेशा तनावपूर्ण रहता था। लेकिन जे के रोलिंग की एक छोटी बहन थी जिसे वो मायावी दुनिया की कहानियाँ लिख-पढ़ कर सुनाया करती थी ।

उनकी एक रिश्तेदार ने उन्हें जेसिका मिटफोर्ड की आटोबायोग्राफी “होन्स एंड रेबेल्स” पढने को दी। जे के रोलिंग को वह किताब बहुत पसंद आई जिसके वजह से वह उनकी सारी किताबें पढ़ डालीं।

Biography of J. K. Rowling in Hindi
Biography of J. K. Rowling in Hindi

Biography of J. K. Rowling in Hindi – जे. के. रोलिंग की पढ़ाई

जे के रोलिंग की स्कूल की शिक्षा सामान्य थी । उन्होंने इंग्लिश, जर्मन और फ्रेंच भाषाओँ में A लेवल से परीक्षा पास की।
जब वो 17 वर्ष की थीं तो उनका सपना था कि वे Oxford University से पढाई करें। इसलिए उन्होंने प्रसिद्ध ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने के लिए प्रवेश परीक्षा दी, परन्तु उन्हें प्रवेश नहीं मिला, इसलिए उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ़ एक्सीटर से फ्रेंच और क्लासिक्स में BA किया ।

Biography of J. K. Rowling in Hindi – माँ की मृत्यु और विवाह

जे के रोलिंग को अपनी माँ से काफी लगाव थी। उनकी माँ हमेशा बीमार रहती थी , जिससे वह काफी परेशान रहती थी। वो अपनी माँ को बचाने की बहुत कोशिश की परंतु उनकी माँ उन्हे 25 वर्ष की उम्र छोड़कर इस दुनियाँ से चली गयी ।

27 वर्ष की उम्र में उनका विवाह हुआ। उनकी शादीशुदा जिंदगी सुखद नहीं थी। समय के साथ उनका अपने पति के साथ रहना बहुत मुश्किल होने लगा। इसी तनाव भरे महौल मे उन्होंने एक नन्ही सी बेटी को जन्म दिया । उम्मीद थी की उनकी बेटी के वजह से उनके रिश्तों मे सुधार होगी । परंतु धीरे-धीरे वो घरेलू हिंसा की इतनी शिकार होने लगी की अंत मे 28 वर्ष की उम्र में उनका अपने पति से Divorce हो गया।


29 वर्ष की उम्र में एक सिंगल मदर के रूप में जे. के. रोलिंग सोशल वेलफेयर से मिलने वाले नाम मात्र पैसे से अपना गुजरा करने लगी । एक छोटी सी बच्ची के साथ अभाव भरे जिंदगी जीना काफी मुश्किल होने लगा। एक वक्त ऐसा भी आया जब वो आत्महत्या करने जैसे नकरात्मक विचारों के विचार से घिरने लगी।

रोलिंग के लिए आत्महत्या करना संभव नहीं था। क्योंकि उनके बाद उनकी बेटी की देख भाल करने वाला कोई नहीं था। इसलिए उन्होंने अपनी जिंदगी को जीने लायक बनाने की विषय मे सोचने लगी।

Biography of J. K. Rowling in Hindi – जे के रोलिंग की सफलता

एक दिन रोलिंग मैनचेस्टर से लन्दन जा रही थी। उनकी ट्रेन अपने समय से 4 घंटे लेट चल रही थी इसलिए जे के रोलिंग ट्रेन के इंतज़ार में स्टेशन पर बैठी थीं। तभी उन्हे एक मायावी कहानी का आईडिया आया जिसे उन्होंने एक पेपर नैपकिन पर लिख लिया और यही से जन्म हुआ Harry Potter बुक का ।

Harry Potter बुक वो रदी कागजों पर लिखा करती थी। जब उनकी बुक लिखकर पूरा हुआ तब सबसे बड़ी समस्या आया की उनकी बुक प्रकाशित करने का। क्योंकि 12 पब्लिशर ने उनकी बुक पब्लिश करने से माना कर दिया । पब्लिशर को लगता था की टीनऐज लड़के शायद किसी फ़ीमेल राइटर की बुक पढ़ना पसंद न करें। एक पब्लिशर ने उनकी बुक छापने के लिए राजी हुआ परंतु उसने किताब में उनका पूरा नाम न लिखकर कुछ शॉर्ट नाम लिखकर बुक छापा।

31 की उम्र में उनकी पहली किताब प्रकाशित हुई । हैरी पॉटर सीरीज की इस पहली किताब की शुरू में केवल 500 प्रतियाँ ही छापी गयी थीं क्योंकि पब्लिशर को भरोसा नहीं था कि ये ज्यादा बिकेगी।परंतु ये बुक बहुत लोगों ने पसंद किया । 42 साल की उम्र में जे. के. रोलिंग की नयी बुक रिलीज़ के पहले दिन ही 1 करोड़ 10 लाख किताबें बिक गयीं। ये एक वर्ल्ड रिकार्ड बन गया है।

उनकी सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब का नाम हैरी पॉटर और पारस पत्थर (Harry Potter and Philosopher’s stone) है जिसकी 12 करोड़ से अधिक किताबें बिक चुकी हैं।

जे के रोलिंग की कुल संपत्ति और आय 1 Billion Dollar (Rs 7,500 करोड़) से भी अधिक है. साल 2019 में उन्होंने 92 मिलियन डॉलर (Rs 695 करोड़) से ज्यादा कमाई की है। आज जे. के. रोलिंग दुनिया की सबसे अमीर राइटर भी हैं।

आजतक हैरी पॉटर सीरीज के 7 किताबों की 50 करोड़ प्रतियाँ बिक चुकी हैं और 70 से अधिक भाषाओँ में उनका अनुवाद हो चुका है तथा उनकी बुक पर अब तक 8 फिल्म भी बन चुका हैं।

Biography of J. K. Rowling in Hindi – Harry Potter Books

  • हैरी पॉटर और पारस पत्थर (Harry Potter And The Philosopher’s Stone)
  • हैरी पॉटर और रहस्मयी तहखाना (Harry Potter And The Chamber Of Secret)
  • हैरी पॉटर और अजकबान का कैदी (Harry Potter And Prisoners Of Azkaban)
  • हैरी पॉटर और आग का प्याला (Harry Potter And Goblet Of Fire)
  • हैरी पॉटर और मायापंछी का समूह (Harry Potter And The Order Of The Phoenix)
  • हैरी पॉटर और हाफ-ब्लड प्रिंस (Harry Potter And The Half-Blood Prince)
  • हैरी पॉटर और मौत के तोहफे (Harry Potter And The Deathly Hollow)

Biography of J. K. Rowling in Hindi- जे के रोलिंग को दिया गया पुरस्कार और सम्मान

  • 1997: नेस्ले स्मर्तीएस पुस्तक पुरस्कार, गोल्ड अवार्ड- हैरी पॉटर और पारस पत्थर।
  • 1998: नेस्ले स्मर्तीएस पुस्तक पुरस्कार, गोल्ड अवार्ड- हैरी पॉटर और रहस्य के चैंबर।
  • 1999: नेस्ले स्मर्तीएस पुस्तक पुरस्कार, गोल्ड अवार्ड- हैरी पॉटर और अज़्काबान का क़ैदी।
  • 2000: ब्रिटिश पुस्तक पुरस्कार, यह साल कि लेखक।
  • 2000: लोकस पुरस्कार- हैरी पॉटर और अज़्काबान का क़ैदी।
  • 2001: ह्यूगो पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ उपन्यास के लिए- हैरी पॉटर और आग का प्याला।
  • 2006: ब्रिटिश बुक ऑफ़ द इयर- हैरी पॉटर और आधा-ख़ून राजकुमार।
  • 2007: ब्लू पीटर बैज, गोल्ड

उपसंहार:

जे॰के॰ रोलिंग विलक्षण, प्रतिभाशाली एवं महान् लेखिका हैं । इनकी पुस्तकों की लोकप्रियता ही इसका प्रमाण है । हैरी पॉर्टर एक 13 वर्ष का बच्चा है । उसके माता-पिता की हत्या बचपन में एक दुष्ट जादूगर बोल्देमार्ट ने कर दी । उसने हैरी पॉर्टर को भी मारने की कोशिश की थी, किन्तु वह बच गया ।

बड़ा होने पर वह जादू-टोने के स्कूल में भरती हो जाता है । मुसीबतों से लड़ता हुआ, हंसमुख, हिम्मती, बुद्धिमान् लड़का हैरी जादूगर के पंजे से हर बार निकल भागता है । हैरी पॉर्टर पर भव्य फिल्में व कार्टून बन चुके हैं । इस सबका श्रेय कल्पनाशील जे॰के॰ रोलिंग को ही जाता है ।

Also Read: Muniba Mazari Biography in hindi, मुनिबा मज़ारी की जीवनी

Biography of J. K. Rowling in Hindi

Biography of J. K. Rowling in Hindi की ये Success story आप को कैसी लगी ? आप अपना विचार हमारे साथ Comment Box लिखकर जरूर बताये । धन्यवाद .

Also Read :-

Biography Of Arunima Sinha In Hindi | अरुणिमा सिन्हा जीवनी

Biography of Warren Buffett in Hindi | वॉरेन बफेट की जीवनी

पटना में ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता चायवाली की सफलता की कहानी ?

Best Success Story Of Rose Blumkin | 95 की उम्र मे खड़ी की सबसे बड़ी Company

Law of Attraction In Hindi A Miracle आकर्षण का नियम Part-1

Ragini Sinha

मैं रागिनी सिन्हा Founder of RaginiMotive.com. raginimotive.com की स्थापना के पीछे मेरी एक ही कोशिश है कि मैं अपने अनुभवों तथा ज्ञान को आपके साथ साझा करके आपकी कुछ मदद या आपको inspire कर सकूं। Thank You.

11 thoughts on “Biography of J. K. Rowling in Hindi जे. के. रोलिंग की जीवनी

Leave a Reply

Your email address will not be published.