पटना में ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता चायवाली की सफलता की कहानी ?

पटना में ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता चायवाली की सफलता की कहानी ?

पटना में ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता ने कैसे लिखी इतनी कम उम्र मे अपनी सफलता की कहानी ?

कहते है हिम्मत के साथ यदि हम अपनी जिंदगी मे आगे बढ़े हो कामयाबी खुद चलकर हमारे दरवाजे पर आती है ये बात सच कर दिखाया है पटना की ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता ने ।

वैसे तो प्रियंका ने कोई बहुत बड़ी कामयाबी हासिल नहीं की है । लेकिन उसने जो कदम उठाया है वो बहुत सी लड़कियों की भविष्य की सफलता के दरवाजे खोल दिए है । आज तक हमारा समाज औरतों को सिर्फ नौकरी करने की इजाजत देता था । लेकिन औरत दुकानदारी करे इसका इजाजत हमारा समाज औरत को नहीं देता था ।

पर प्र‍ियंका गुप्ता ने समाज की इस दकियानूसी सोच को बदलने पर मजबूर कर दिया है । यदि प्रियंका अपने चाय की इस दुकान को एक बहुत बड़ी बिजनेस मे बदल दिया तो वो दिन दूर नहीं जब हमारे समाज से हजारों प्रियंका अपने घर से बाहर निकलकर अपनी मेहनत के बल पर अपनी सफलता की कहानी लिखेंगी ।

ग्रेजुएट चाय वाली' प्र‍ियंका गुप्ता
ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता

ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता

“ग्रेजुएट चायवाली” के नाम से मशहूर प्र‍ियंका गुप्ता आजकल मीडिया और सोशल मीडिया में सुर्खियों में है । दरअसल, प्र‍ियंका गुप्ता बीएचयू से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएट है, इसके बाद नौकरी की तलाश में कई शहरों में घुमी लेकिन कहीं नौकरी नहीं मिली। इसके बाद उसने अपने माता – पिता को बिना बताये पटना के वीमेंस कॉलेज के पास टी स्टॉल लगाकर चाय बेचने का काम शुरू कर दिया ।

कुछ ही दिनों मे प्रियंका “प्रियंका चायवाली” की नाम से काफी मशहूर हो गई । होती भी क्यों नहीं बीएचयू से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएट करने के बाद एक लड़की चाय बेचे ये हमारे समाज के लिए हैरानी की बात तो थी ही । पटना के वीमेंस कॉलेज के पास टी स्टॉल लगाकर छात्रों और आम लोगों को चाय पिला रही प्रियंका देखते ही देखते मीडिया और सोशल मीडिया पर छा गई ।

बहुत कम समय मे प्रियंका ने अपनी एक अलग पहचान बना चुकी है । प्रियंका ने चाय स्टॉल पर बेहद खूबसूरत अंदाज में पंचलाइन लिखी है, ‘पीना ही पड़ेगा’ और ‘सोच मत…चालू कर दे बस’।

ग्रेजुएट चाय वाली' प्र‍ियंका गुप्ता
ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता

ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता

प्रियंका हर रोज अपनी इस दुकान को एक बहुत बड़ी विजनेस मे बदलने की तैयारी मे जुटी हुई है । क्योंकि वह मैनेजमेंट कर चाय बेचने वाले प्रफुल्ल बिलौर से काफी प्रभावित है । प्रियंका का मानना है की जब एमबीए की पढ़ाई करके लोग चायवाला बन सकते हैं तो वह ग्रेजुएशन करके चायवाली क्यों नहीं बन सकती है।

चाहे जो भी हो पर प्रियंका की ये सोच तथा उसकी ये कदम हमारे समाज मे औरतों को अपनी पहचान बनाने की एक नई रास्ते बना दी है ।

Dear Friends आपको मेरी इस Post से क्या सिख मिली है । आप हमे कमेन्ट कर जरूर बताये । आप हमे ये भी बताये की आप किस प्रकार की post पढ़ना पसंद करेंगे । ताकि मे आपकी पसंद के अनुसार अपनी Blog raginimotive.com परआपके लिए post लिख सकूँ ।

मेरी post को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद ।

Also Read👇
Muniba Mazari Biography in hindi, मुनिबा मज़ारी की जीवनी
Biography of J. K. Rowling in Hindi जे. के. रोलिंग की जीवनी
Best Success Story Of Rose Blumkin | 95 की उम्र मे खड़ी की सबसे बड़ी Company

Ragini Sinha

मैं रागिनी सिन्हा Founder of RaginiMotive.com. raginimotive.com की स्थापना के पीछे मेरी एक ही कोशिश है कि मैं अपने अनुभवों तथा ज्ञान को आपके साथ साझा करके आपकी कुछ मदद या आपको inspire कर सकूं। Thank You.

One thought on “पटना में ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ प्र‍ियंका गुप्ता चायवाली की सफलता की कहानी ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.